Thursday, December 14, 2017

सपने बाँटकर हर रोज़ गुज़र जाती है रात। हक़ीक़त और फँसाने में बड़ा फ़र्क़ होता है।। अंशुमान शुक्ल
हमसे क्यूँ माँगते हो रहबरी का हिसाब। चाँद जैसी ही होती है गोल-गोल रोटी।। अंशुमान शुक्ल 
शहर ने बढ़ाया जब गाँव की ओर क़दम।  हल खल चूल्हा चौकी सब दफ़ा हो गये।। अंशुमान शुक्ल
रोज़ सिसक कर मर रहे हैं गाँव खेत खलिहान। कहाँ से लाओगे तुम गृहस्थी का सामान।। अंशुमान शुक्ल
गाँव जब से शहर के फुटपाथों पर आ गया। रिश्तों की सोंधी सुगन्ध कहीं गुम हो गई।। अंशुमान शुक्ल

Sunday, July 31, 2016

उत्तर प्रदेश में सब अमन चैन है। सड़क पर लूटती आबरू, खाकी मौन है। उत्तर प्रदेश में सब अमन चैन है। मुख्यमंत्री की पुलिस को धुन रहे कौन हैं। कार में खद्दर-खाकी साधे मौन है। उत्तर प्रदेश में सब अमन चैन है। जिले के थानों का रेट फिक्स है। हर जुबान पर इस सच का जिक्र है। अब इसकी परवाह करता कौन है। उत्तर प्रदेश में सब अमन चैन है। एक बिरादर एक ही जात। थानों पर बैठे स्वजात। समाजवाद का देखो कैसा ढ़ोंग है। उत्तर प्रदेश में सब अमन चैन है। जहर बुती शराब से मर रहे लोग हैं। अपराधियों के हाथों मर रही पुलिस। घर में शोक है। मंत्री बक रहे अपशब्द, गजब ढ़ोंग है। उत्तर प्रदेश में सब अमन चैन है। आ रहा है चुनाव हिसाब देना होगा। झठा सच बताने का अपमान सहना होगा। सत्ताच्युत होने का समय अधिक निकट है। तारो तारनहार समस्या बड़ी बिकट है। लोग बताएंगे दूध में कितना फेन है। उत्तर प्रदेश में सब अमन चैन है ...अंशुमान शुक्ल

Monday, July 18, 2016

कड़ुवा सच 
जीवन एक कड़ुवा सच, स्वार्थ में लिपटा
अपनों तक सिमटा परिभाषित किन्तु कुंठित 
अपनों  की सूचि में बारी बारी सभी पराये
स्वार्थ सिद्धि के समीकरण कलेजे से लगाए
झुलस चुकी आत्मा को सफेदी से छुपाये
जीवन एक कडुवा सच...
परिधि पर नाचता, धुरी सधा
उदय  से अस्ताचल  तक का सफर
सपनो  के बाजार में बिकता हर पल
इंसान होने का दारुण दर्द' इंसानियत बे पर्द
जीवन एक कडुवा सच...